हरिद्वार में दो दिन मे 14 एमएम बारिश, ठंड बढ़ी


भारत नमन ब्यूरो /हरिद्वार। सोमवार को बूंदाबांदी और मंगलवार को पूरे दिन रुक-रुक कर हुई बारिश के चलते ठंड बढ़ गई। इससे पूरे दिन लोग घरों में कैद रहे। कामकाजी लोगों को कार्य स्थल तक पहुंचने में असुविधा हुई। अधिकतम और न्यूनतम तापमान क्रमशरू 16.4 और 6.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। शहर में 14 एमएम बारिश दर्ज की गई। साल के पहले सप्ताह से मौसम का मिजाज इस कदर बदला कि सुधरने का नाम नहीं ले रहा है। सोमवार को पूरे दिन आसमान में बादल छाए रहे। बूंदाबांदी से ठिठुरन बढ़ी। इससे लोग घरों में कैद होकर रह गए। मंगलवार को तो पूरे दिन रुक-रुक कर बारिश होती रही। सर्द हवाएं मुश्किलें बढ़ाती रही। ठंड से बचने को लोग घरों में कैद रहे। ठंड दूर भगाने को अलाव और हीटर का सहारा लेना पड़ा। कामकाजी लोगों को भी कार्यस्थलों तक पहुंचने में दिक्कतें आई। इधर ठंड बढ़ने से बाजारों में भी अपेक्षित चहल पहल नहीं दिखी। अपर रोड मार्केट,कटहरा बाजार आदि में सन्नाटा पसरा रहा। दुकानदार ग्राहकों की बाट जोहते नजर आए। मंगलवार को अधिकतम और न्यूनतम तापमान क्रमशः 16.4 और 6.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। वहीं 14 एमएम बारिश हुई। इधर बारिश के चलते शाम के वक्त नगर निगम प्रशासन को अलाव की व्यवस्था करने में दिक्कत आई। इधर बारिश से गेहूं , सरसों और मौसमी सब्जी आदि फसलों को काफी फायदा पहुंचा है। किसान संजय कुमार, रमेशचंद, अरविद आदि ने बताया कि बारिश से सर्वाधिक गेहूं की फसल को फायदा पहुंचा है। मंगलवार को जिले में रुक- रुक कर बारिश होती रही। जगह-जगह जलभराव, कीचड़ और फिसलन की समस्या से शहरी दो चार होते रहे। मंगलवार को लोगों का सड़कों पर चलना दूभर हो गया। विद्युत लाइन भूमिगत करने को खोदे गड्ढे भी परेशानी का सबब बने रहे। बारिश से ऋषिकुल चैक, बस स्टैंड, भगत सिंह चैक, विवेक विहार मॉडल कॉलोनी, गोविद पुरी आदि जगहों पर जलभराव और कीचड़ की समस्या देखने को मिली। बारिश के कारण स्कूली बच्चों के अलावा लोगों को घरों से निकलने में काफी परेशानी हुई। कामकाजी लोगों को छतरी और बरसाती का इस्तेमाल करना पड़ा। जल निकासी की व्यवस्था नहीं होने से शहर की सड़कों और गलियों में भी कीचड़ और बारिश का पानी जमा रहा। कई स्थानों पर वाहनों के गड्ढे में फंसने के मामले सामने आए। जिसे निकालने को काफी मशक्कत करनी पड़ी। आम शहरी सिस्टम को कोसते नजर आए।



टिप्पणियाँ