क्षत्रिय महासभा ने राणा संग्राम सिंह का बलिदान दिवस मनाया

भारत नमन ब्यूरो /हरिद्वार। अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा ने  राणा संग्राम सिंह का बलिदान दिवस मनाया। कनखल स्थित राजपूत धर्मशाला कार्यालय में आयोजित एक गोष्ठी में महासभा के पदाधिकारियों ने कहा कि राणा सांगा एक बहादुर योद्धा और कुशल शासक थे। जिन्होंने मांडू के सुल्तान महमूद को युद्व में हराकर उसे बन्दी बनाकर अपने किले में ले गये। जहां उसका उपचार एवं देखभाल करने के उपरान्त उसे छोड़ दिया। महासचिव डॉ. शिव कुमार चौहान ने कहा कि ऐसे शासक से प्रेरणा लेकर हम सभी को आगे बढ़ना चाहिये। रोहिताश्व कुंवर चौहान ने कहा कि मेवाड़ की धरती वीर राजपूतों की जननी है। जहां ऐसे योद्धाओं ने जन्म लिया है जिन्होंने मानवता की रक्षा के लिये अपने प्राणों की बाजी लगा दी। उन्होंने राणा सांगा के जीवन को मानवीय मूल्यों का आदर्श बताया। लोकेन्द्र पाल सिंह ने कहा कि महाराणा प्रताप के वंशज राणा सांगा ने भरतपुर के पास स्थित खानुआ के युद्ध में बाबर को हराकर मेवाड़ की रक्षा की। क्षत्रिय महासभा के अध्यक्ष ठाकुर यशपाल सिंह राणा ने कहा कि राणा सांगा की वीरता का कोई सानी नहीं था। पानीपत युद्व विजय के कारण बाबर का मनोबल बहुत ऊंचा था। परन्तु खानुआ युद्व से पहले राजपूती सेना की युद्व कुशलता के सामने बाबर की सेना में खलबली मच गई थी।गोष्ठी में प्रो. भारत भूषण, डा. बिजेन्द्र सिंह चौहान, धनश्याम सिंह, योगेंद्र राठौर, अजय कुमार, महेन्द्र सिंह नेगी, मनवीर सिंह, विजयपाल सिंह राणा, प्रेम सिंह राणा, आरके चौहान, बीएस नेगी, नरेंद्र पाल सिंह चौहान, अंकित चौहान, तनुज शेखावत, राजीव चौहान, विक्रान्त पुंडीर, सतपाल सिंह, योगेन्द्रपाल सिंह, संजीव चौहान, राजेश चौहान, मदनपाल सिंह, मुनेश राणा आदि शामिल थे।


टिप्पणियाँ