मांगों को लेकर मेयर ने मुख्‍यमंत्री को सौंपा ज्ञापन

भारत नमन ब्यूरो /हरिद्वार। हरिद्वार। नगर निगम हरिद्वार की मेयर अनीता शर्मा ने एक पांच सदस्यीय प्रतिनिधि मंडल के साथ सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत से मुलाकात की। मेयर ने इलाके के विकास के लिए निगम में अधिकारियों के रिक्त पदों को जल्द से जल्द भरने के साथ शहर में परेशानी का सबब बनी भूमिगत विद्युत लाईनों का कार्य रोकने की मांग की। सीएम को दिये ज्ञापन में मेयर अनीता शर्मा ने कहा कि निगम में 4 अवर अभियंताओं के पद रिक्त हैं। जिसके चलते तमाम योजनाएं अधर में हैं। उन्होंने इन पदों पर नियुक्ति की मांग की। उन्होंने नगर निगम के क्षेत्र में होने वाले कार्यों के लिए ग्रामीण लोक निर्माण विभाग की जगह नगर निगम को नामित करने की मांग की। निगम कर्मियों के देय भुगतान को कराने की सीएम से मांग की गई। मेयर ने कहा कि जर्जर निगम कार्यालय के लिए भवन निर्माण का शिलान्यास होने के बावजूद आजतक भवन निर्माण का कार्य शुरू नहीं हो पाया है जिसके चलते न केवल उसमें काम करने वाले कर्मचारियों बल्कि वहां आने वाले आम नागरिकों की जान भी खतरे में रहती है। उन्होंने इसके निर्माण हेतु सीएम से आदेश जारी करने की मांग की। निगम की भूमि पर बनाये गये राजकीय अतिथि गृह के सापेक्ष अबतक मिलने वाली 5 करोड़ 65 लाख की धनराशि अवमुक्त करने की मांग की। निगम की भूमि पर चले आ रहे अवैध कब्जों को जल्द से जल्द खाली कराकर भूमि निगम को सौंपने की मांग की। मेयर ने गुरुकुल महाविद्यालय में स्थानीय विधायक द्वारा काबीना मंत्री पर लगाये गए आरोपों की जांच के लिए उच्च स्तरीय जांच समिति गठित करने की भी मांग की। साथ ही संपूर्ण निगम क्षेत्र को कुंभ मेला क्षेत्र में सम्मलित करने की भी मांग की गई। निगम में कार्यरत तमाम संविदा कर्मियों को उनके कार्य के अनुसार समान कार्य समान वेतन अनुमन्य करने को कहा। ज्ञापन सौंपने वालों में पार्षद राजीव भार्गव, कैलाश भट्ट, महावीर वशिष्ठ, सोहेल कुरेशी और पूर्व पार्षद अशोक शर्मा शामिल थे।


काले झंडे दिखाने की जगह दिये गुलाब के फूल : नगर निगम हरिद्वार की विभिन्न मांगों को लेकर निगम पार्षदों के साथ कांग्रेसियों का रविवार को सीएम को काले झंडे दिखाने का कार्यक्रम था, इसके लिए तमाम कांग्रेसी और पार्षद रोड धर्मशाला पर एकत्र हुए, लेकिन अंतिम समय में कार्यक्रम में बदलाव कर मेयर ने सीएम को काले झंडे दिखाने की जगह गुलाब के फूल भेंट कर दिये। जिसे लेकर कई पार्षद और कांग्रेसी नाराज नजर आये। जिस पन्नी में पुलिस की नजरों से बचाकर सीएम को दिखाने के लिए काले झंडे लाये गये थे, वे झंडे पन्नी से बाहर ही नहीं निकल पाये।


टिप्पणियाँ