व्यापार मंडल किसी की बपौती नहीं : सेठी

भारत नमन ब्यूरो /हरिद्वार। महानगर व्यापार मण्डल के जिला अध्यक्ष सुनील सेठी ने कहा कि व्यापार मण्डल किसी निजी संगठन की बपौती नहीं है। व्यापारिक संगठनों प्रतिनिधियों का चुनाव व्यापारियों की राय से होना चाहिए। लेकिन कुछ स्वयंभू व्यापारी नेता निजी संगठनों की तरह व्यापार मण्डलों का गठन कर व्यापारी एकता को कमजोर कर रहे है। व्यापारियों की बैठक को संबोधित करते हुए सुनील सेठी ने कहा कि हरिद्वार में व्यापार मण्डल एक मजबूत ताकत हुआ करते थे। लेकिन 30-30 सालों से पदों पर जमे कुछ व्यापारी नेताओं की पद लोलुपता के चलते यह ताकत खत्म होने की कगार पर पहंुच गयी है। निजी स्वार्थो के चलते कुछ व्यापारी नेता व्यापार मण्डल के नाम पर निजी दुकानें चला रहे हैं। व्यापारियों की राय जाने बिना तथा मतदान के बगैर ही व्यापारिक इकाईयों का गठन किया जा रहा है। व्यापारी मतदान के जरिए व्यापार मण्डलों का गठन चाहते हैं। जिससे एकजुट व मजबूत व्यापारिक संगठन वजूद में आएं। प्रदेश व्यापार मंडल के नाम पर स्वयंभू व्यापारिक संगठन ने फिर एक बार हरिद्वार के व्यापारियों को ठगने का काम किया। बिना व्यापारियों की राय जाने व बिना मतदान के ही कार्यकारिणी घोषित कर दी गयी। सेठी ने कहा कि व्यापारियों का प्रतिनिधि बनने की इच्छा रखने वाले लोग मैदान में आएं और बाकायदा चुनाव के जरिए निर्वाचित होकर व्यापारियों की सेवा करें। जिला उपाध्यक्ष जितेंद्र चैरसिया ने कहा कि अब ऐसा नही चलेगा। पत्रों के माध्यम से राजनीतिक व्यापार मंडल गठित करने का खेल बन्द होना चाहिए। बैठक में मुख्य रूप से पंकज माटा, तरुण व्यास, मनोज कुमार आदित्य, नवदीप मान, रवि जोशी, प्रीतकमल सारस्वत, तेज प्रकाश साहू, दीपक पांडेय, प्रदीप मान, मनोज कुमार, धर्मपाल सिंह, हरीश कुमार, रामलाल कुमार, मुकेश अग्रवाल, राजेश भाटिया, तरुण मल्होत्रा, हिमेश अरोड़ा, प्रवीण कुमार, राजदीप सिंह, राजेश सुखीजा, दीपक मेहता आदि व्यापारी मौजूद रहे।


टिप्पणियाँ