चेकिंग के नाम पर ऋषिकेश में पुलिस उडा़ रही सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियाँ


एसके विरमानी /ऋषिकेश। कोरोना वायरस सेे बचाव के लिए ऋषिकेश में सोशल डिस्टेंसिग की पुलिस द्वारा दुपहिया वाहनों की चेकिंग  के नाम पर धज्जियां उड़ाई गई।ऋषिकेेश के घाट रोड़ चौराहे पर शाम 6 बजे से 7 बजे के दौरान पुलिस चेकिंग के नाम पर सोशल डिस्टेंसिग की धज्जियां उड़ाते दिखी। 


ऋषिकेश में शाम को त्रिवेणी घाट की आरती समाप्त होने और शाम 7 बजे मार्किट बंद होने के बाद लोग जल्दी अपने घर जाने के नाम पर निकलते है जिससे ट्रैफिक ब्यवस्था को संभालना पुलिस का काम होता है लेकिन ट्रैफिक को सुचारू रूप से चलाने की जगह कोरोना काल मे पुलिस चेकिंग के नाम पर स्थानीय लोगों को सिर्फ को परेशान कर रही है



जिससे चौराहों पर  भीड़ जमा हो जाती है, जबकि दिन भर हरियाणा, दिल्ली, नंबर के वाहन ऋषिकेेश में देखे जाते है लेकिन उनको कोई चेकिंग नही करता लेकिन जब स्थानीय लोग मार्केट बंद होने के बाद घर जाने लगते है तो पुलिस का चेकिंग अभियान शुरू हो जाता है जिसमें  चैकिंग के नाम पर लोगो को परेशान किया जाता है, जबकि इस समय लाकडाउन में कहीं पर भी भीड़ जमा न हो इसके लिए सरकार की सख्त गाइड लाइन है। मजे की बात है ऋषिकेश में खुद पुलिस ही इस गाइड लाइन का पालन नहीं कर पा रही है। पुलिस के इस रवैये से स्थानीय लोगों में रोष पनप रहा है। देखना है कि स्थानीय स्तर पर और जिला स्तर पर बैठे उच्चाधिकारी ऋषिकेश पुलिस की इस तरह की कार्यशैली पर रोक लगाने को क्या कदम उठाते हैं। 


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जिलाधिकारी ने दिए साप्ताहिक बंदी का कड़ाई से पालन कराने के निर्देश

रेंज प्रभारियों की तरह यातायात निदेशक को दिए गए अधिकार

उत्तराखंड में टूटे अब तक के सारे रिकार्ड, कोरोना के 4807 नये केस, दिन में दो बजते ही बाजार में पसरा सन्नाटा