रक्षाबंधन पर विशेष

         


       रक्षा का बंधन 


         सुशीला रोहिला,  सोनीपत


   


        भाई बहन की रक्षा करता


        रक्षा बंधन का पर्व होता


        पर्व हमें रीति नीति सिखाते


        रिश्ते का मर्म बतलाते 


 


        कर्मवती पर आई विपदा


        हिमायू को भेजा रक्षा तार


        भाई का धर्म बचाने का कर्म


        कर्मवती हो गई खुशहाल


 


        राखी की शपथ निभाने


        बीच सभा में लाज बचाने 


        श्यामवर्ण है कृष्ण मुरार


        द्रुपद सुता के बीर महान


 


        राखी आधुनिकता में ढकी


        वस्त्र आभुषण उपहार में सिमटी


        प्रेम के बंधन का बना व्यापार 


        भाई बहन करते व्यंग्यात्मक प्रहार


 


        हर बेटी बहन की सुरक्षा ही


        राखी का है हर रोज त्योहार 


        यह रीत सब मिलकर अपनाए


        सद्भावना की डोर में बंधना 


        सच्चा है राखी का त्योहार ।


टिप्पणियाँ