कबाड़ से जुगाड़


नगर निगम- यूएनडीपी की कार्यशाला में झुग्गियों में रहने वाले बच्चों ने दिखाया अपना हुनर


गरीब बच्चों में टेलेंट निखारने के लिए नगर निगम करेगा काम :अनिता ममगाई 


एसके विरमानी /ऋषिकेश। प्रतिभा संसाधनों की मोहताज नहीं होती जरूरत होती । बस जरूरत होती है हुनरमंद बच्चों को पहचान कर उनको सही दिशा देने की। ऋषिकेश नगर निगम प्रशासन इस पर ठोस काम करता हुआ दिखाई दे रहा है।गरीब बच्चों के टेलेंट को निखारने की निगम द्वारा एक अनूठी पहल शुरू की गई है।


निगम प्रशासन द्वारा यूएनडीपी के सौजन्य से कबाड़ से जुगाड़ कार्यशाला के जरिए गरीब बच्चों की प्रतिभा को निखारने की मुहिम शुरू की गई है। शुरुआती चरण में ही उसके बेहद शानदार परिणाम दिखाई देने लगे हैं। बच्चों द्वारा वेस्ट मैटेरियल से घरेलू सज्जा के जो सामान तैयार किए गए हैं उन्हें देखकर कोई भी दंग रह सकता है। नगर निगम महापौरअनिता ममगाईं ने बताया कि नगर निगम ऋषिकेश एवं यू एन डी पी द्वारा संचालित सूखा कचरा प्रसंस्करण केंद्र के आसपास झुग्गियों में रहने वाले एवं कचरे में काम करने वाले परिवारों के बच्चों की प्रतिभा को निखारने के लिए कार्यशाला के जरिए उन्हें ट्रेनिंग दी जा रही है।



गोविंद नगर स्थित डंपिंग स्थल पर बने सेंटर में कार्यशाला में सम्मिलित हुए बच्चों ने अपनी प्रतिभा के दर्शन कराए हैं। निगम द्वारा दिए गए मौके से गरीब बच्चों की प्रतिभा निखर कर सामने आई जिसमें उनके द्वारा बेहद खूबसूरत गमले तैयार किए गए हैं जिनमें निगम प्रशासन द्वारा पौधे भी लगवाए जाएंगे। मेयर ममगाई के अनुसार कार्यशाला में प्रतिभाग कर रहे तमाम बच्चों को प्रोत्साहित करने के साथ-साथ निगम प्रशासन कला में सर्वश्रेष्ठ छाप छोड़ने वाले बच्चे को पुरस्कृत भी करेगा।



यूएनडीपी के प्रोजेक्ट मैनेजर विधा भूषण ने बताया कि कार्यशाला में 20 बच्चे शामिल हुए , जिन्होंने विभिन्न तरह के 70 गमले बनाये जा चुके हैं। बच्चों ने न केवल गमला बनाया बल्कि उसको रंग बिरंगा बनाने के बाद उसमे रस्सी बांधी जिसको कही भी टाँगा जा सकता है। उन्होंने झुग्गी झोपड़ियों में रहने वाले गरीब बच्चों को प्रोत्साहित करने के लिए निगम द्वारा शुरू की गई कार्यशाला के लिए महापौर को साधुवाद भी दिया ।


टिप्पणियाँ