किसान विरोधी बिल के खिलाफ कांग्रेस का हल्ला बोल

 



--------------------------------------------------------------


अब पढिये खबर - 


संसद में पास किये गये तीन काले कानून देश के किसानों को गुलाम बनाने की साजिश 


bharatnaman.page /देहरादून। किसान विरोधी कृषि विधेयक पारित किये जाने के विरोध में उत्तराखंड प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह के नेतृत्व में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने गत दिवस केन्द्र की मोदी सरकार के खिलाफ हल्ला बोलते हुए राजभवन कूच किया।



इस अवसर परकांग्रेस कार्यकर्ताओं को सम्बोधित करते हुए प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने कहा  कि संसद के बीते मॉनसून सत्र में पास किये गए तीन काले कानून देश के 65 करोड़ किसानों को गुलाम बनाने की बड़ी साजिश है जिसका सूत्रपात प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया है। उन्होंने कहा कि अगर देश में एमएसपी प्रणाली ही समाप्त हो जाएगी तो किसान अपनी फसल का मूल्य किस प्रणाली से तय करेगा। उन्होंने कहा कि अनाज मंडी व सब्जी मंडी समाप्त कर किसान को पंगु बनाने की बड़ी साजिश है । प्रीतम सिंह ने कहा कि आवश्यक वस्तु अधिनियम 1955 में संशोधन कर मोदी सरकार ने जमाखोरी व कालाबाज़ारी को कानूनी रूप से वैध बना दिया।


कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष  ने कहा कि आज देश के करोड़ों किसान मोदी सरकार के इन किसान विरोधी कानूनों के खिलाफ सड़को पर उतरे हुए हैं और मोदी जी आंखों में पट्टी बांध कर इन कानूनों को जायज ठहरा रहे हैं। उन्होंने राज्य के कांग्रेस कार्यकर्ताओं को किसान विरोधी कानूनों के खिलाफ आज के राजभवन कूच को ऐतिहासिक बनाने के लिए आभार व्यक्त किया।



कूच से पूर्व कांग्रेस मुख्यालय में आयोजित सभा को राज्य सभा सांसद प्रदीप टम्टा, पूर्व पीसीसी अध्यक्ष किशोर उपाध्याय, विधायक ममता राकेश , प्रदेश उपाध्यक्ष रंजीत रावत, प्रदेश उपाध्यक्ष सूर्यकांत धस्माना,विधायक मनोज रावत,पूर्व विधायक विजयपाल सजवाण, पूर्व विधायक राजकुमार , किसान नेता धर्मपाल , जिला पंचायत रुद्रप्रयाग की पूर्व अध्यक्ष लक्ष्मी राणा ने भी संबोधित किया।


इसके उपरांत कांग्रेस मुख्यालय राजीव भवन से प्रीतम सिंह के नेतृत्व में कूच प्रारंभ हुआ जो राजपुर रोड दिलाराम बाजार से होता हुआ हाथीबड़कला पहुंचा। वहां भारी पुलिस बल एकत्रित था जिन्होंने भारी भरकम बैरिकेडिंग लगा कर रोकने का प्रयास किया तब पुलिस व कांग्रेसीओं में धक्का मुक्की के बाद प्रीतम सिंह व अन्य नेताओं ने सड़क पर धरना देकर मोदी सरकार व बीजेपी के खिलाफ नारेबाजी की। बाद में एडीएम प्रशासन ने प्रदर्शनकारियों के बीच आकर प्रीतम सिंह से राष्ट्रपति के नाम राज्यपाल के माध्यम से ज्ञापन प्राप्त किया।


इस मौके पर पूर्व अध्यक्ष किशोर उपाध्याय, राज्य सभा सांसद प्रदीप टम्टा, पूर्व एआईसीसी सचिव प्रकाश जोशी, विधायक मनोज रावत , विजय पाल सजवाण,ममता राकेश, फुरकान अहमद , आदेश चौहान समेत तमाम नेताओ के साथ प्रदेश उपाध्यक्ष सूर्यकांत धस्माना , पूर्व सांसद महेन्द्रपाल, पूर्व मंत्री शूरवीर सिंह सजवाण, पूर्व मंत्री मातबर सिंह कंडारी, पूर्व विधायक राजकुमार, पूर्व विधायक विजय पॉल सजवाण,पूर्व विधायक सरिता आर्या, पूर्व विधायक नारायण पाल पूर्व विधायक डॉक्टर जीत राम , पूर्व विधायक रामयश,पूर्व विधायक राजकुमार, सिंह , धीरेंद्र प्रताप, सतपाल ब्रह्मचारी, हिमांशु बिजल्वाण, धर्मपाल , लक्ष्मी राणा,  प्रदेश सचिव श्रीमती मंजू त्रिपाठी, गरिमा दसौनी, शांति रावत, परिणीता बडोनी , पिया थापा , कमलेश रमन, डॉक्टर प्रतिमा सिंह , संजय किशोर, गौरव सिंह, लालचंद शर्मा, कवींद्र इष्टवाल, विकास नेगी, राजेश चमोली, डॉक्टर बिजेंद्र पाल , अर्जुन सोनकर सहित बड़ी संख्या में पार्टी पदाधिकारी उपस्थित रहे।


टिप्पणियाँ