करोड़ों की धोखाधड़ी के मामले में एसआईटी का गठन


एसके विरमानी / देहरादून। करोड़ों रुपए की धोखाधड़ी/ठगी करने वाले एराइज़ इण्डिया हिमालय निधि लिमिटेड के सदस्यों के विरूद्ध पंजीकृत अभियोगों में पुलिस उपमहानिरीक्षक/वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक देहरादून द्वारा एस0आई0टी0 का गठन किया गया और मामले में सख्त कार्यवाही के निर्देश दिये गये।


पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार पुलिस उपमहानिरीक्षक/वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक देहरादून  द्वारा विभिन्न थानो में एराइज इण्डिया हिमालय निधि लिमिटेड के विरूद्ध पंजीकृत अभियोगो की समीक्षा की गयी, समीक्षा के दौरान यह तथ्य प्रकाश में आये कि एराइज इण्डिया लिमिटेड के सीएमडी नितिन श्रीवास्तव, रीजनल मैनेजर कपिल देव शर्मा व डायरेक्टर अनिरूद्ध तिवारी द्वारा अन्य लोगों के साथ मिल कर देहरादून के विभिन्न स्थानो पर स्थानीय जनता को बैंको से ज्यादा ब्याज की धनराशि दिये जाने का लालच देकर उनसे आर0डी0/एफ0डी0 खुलवायी गयी तथा आर0डी0/एफ0डी0 की अवधि पूर्ण होने के उपरान्त इनके द्वारा पैसा वापस दिये जाने से मना किया गया।इस प्रकार इनके द्वारा स्थानीय जनता से करीब 01 करोड 50 लाख रूपये की ठगी /धोखाधड़ी की गयी है और अधिक धनराशि की धोखाधड़ी किया जाना प्रकाश में आ रहा है।


  मामले की गम्भीरता को देखते हुए पुलिस उपमहानिरीक्षक/वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक द्वारा धोखाधड़ी के आरोपियों की शीघ्र गिरफ्तारी व अभियुक्त गणों के विरुद्ध गैंगस्टर अधिनियम के अंतर्गत अभियोग पंजीकृत व धोखाधड़ी से अर्जित की गई धनराशि व संपत्ति की जब्तीकरण किए जाने हेतु एस0पी0 क्राइम लोकजीत सिंह के पर्यवेक्षण में एसआईटी का गठन किया गया है। गठित एसआईटी को जनपद देहरादून में उपरोक्त कंपनी के सदस्यों के विरुद्ध विभिन्न मुकदमों में त्वरित उपरोक्त कार्यवाही करने हेतु निर्देशित किया गया है जिसकी समय-समय पर पुलिस उपमहानिरीक्षक/वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक देहरादून द्वारा स्वयं समीक्षा की जायेगी।


टिप्पणियां