कोरोना से जंग में SMS को बनाएं जीवन का नया सूत्र


फिर बढ़ी कोरोना की रफ्तार- 


प्रदेश में रविवार को 466 केस, 9 लोगों की मौत


देहरादून जनपद में सबसे ज्यादा 181 मामले 


नरेश रोहिला / देश और प्रदेश में कोविड-19 संक्रमण फिर जिस तरह से तेज होता दिख रहा है, उसे देखते हुए हम सभी को बहुत ज्यादा एहतियात बरतने की आवश्यकता है।इसलिए भी कि अब फिर हर रोज बडी संख्या में कोरोना पाजीटिव सामने आ रहे हैं।



स्टेट कोरोना कन्ट्रोल रूम कोविड - 19 के हैल्थ बुलेटिन के अनुसार रविवार को भी देहरादून जनपद में सबसे अधिक 181 मरीजों सहित पूरे प्रदेश में 466 लोगों की कोरोना टेस्ट रिपोर्ट पाजीटिव आयी है जिसके बाद राज्य में कोरोना मरीजों का आंकडा 71256 तक पहुंच गया। पिछले 24 घंटे में 9 लोगों की मौत हुई है। 


हालांकि मरीज जल्दी ठीक भी हो रहे हैं और स्वास्थ्य विभाग के आकंडों के अनुसार अभी तक 65 हजार से अधिक लोग कोरोना से जंग जीत चुके हैं। आज भी 251 लोगों को स्वस्थ होने के बाद विभिन्न अस्पतालों से डिस्चार्ज किया गया है। वर्तमान में 6368 मरीज एक्टिव है और 12577 सैंपल की रिपोर्ट प्रतीक्षारत है।



बहरहाल फिर से कोरोना की रफ्तार डराने वाली है। देश की राजधानी दिल्ली में तो स्थिति डरा रही है। दिल्ली सहित कई राज्यों में लाकडाउन रिटर्न का खतरा लोगों को सता रहा है। राजस्थान में तो आठ जिलों में रात का कर्फ्यू लगा दिया गया है। अपने राज्य उत्तराखंड में हलांकि अभी उतना खतरा नहीं है लेकिन फिर भी खुद को संक्रमण से बचाकर रखने के लिए तमाम उपाय गंभीरता से अपनाने चाहिए।


कोरोना की अभी तक दवाई नहीं है। इसलिए जरा सी लापरवाही जीवन पर भारी पड सकती है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है जब तक दवाई नहीं तब तक ढिलाई नहीं। प्रदेश के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत और उनकी सरकार भी लगातार कोरोना संक्रमण के दृष्टिगत लोगों को जागरूक करने में लगी हुई है। इसलिए सभी की जिम्मेदारी बनती है कि महामारी से खुद को बचाने के लिए सोशल डिस्टेंसिंग और मास्क के उपयोग में ढिलाई न बरतें।


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने महामारी के खिलाफ एक जन आंदोलन की शुरूआत की है। उन्होंने सभी लोगों से कोरोना से खुद को बचाकर रखने के लिए तीन नियमों का पालन करने के लिए कहा है।


इन नियमों को SMS के तौर पर हम सभी याद रख सकते हैं।


SMS यानि कोरोना संक्रमण से बचने के लिए जीवन के तीन सूत्र।


ये क्या हैं हम आपको बता रहे हैं।


 S यानि सेनेटाइजेशन ( हाथों की स्वच्छता )


 M यानि मास्क ( मुंह पर लगाये)


 S यानि सेफ डिस्टेंसिंग ( सुरक्षित दूरी )


तो बिल्कुल लापरवाही न बरते। जिम्मेदार नागरिक बने और इन उपायों को अपनाकर स्वयं और अन्य को कोविड-19 से बचायें।


टिप्पणियाँ