सहकारिता विभाग ने एक माह में रिकार्ड 65 करोड़ के ऋण की वसूली की

 


सहकारिता मंत्री डाॅ धन सिंह रावत ने किया निबंधक सहकारी समिति  मुख्यालय के सभागार का लोकार्पण 

एसके विरमानी /देहरादून। सहकारिता विभाग में वर्षों से 650 करोड़ रुपए का बकाया ऋण लम्बित था। जिसमें से पिछले 2 सालों में ऋण वसूली में बड़ी तेजी आई है। पिछले एक माह में विभाग ने 65 करोड़ का बकाया ऋण वसूला गया है जो अपने आप में एक रिकाॅर्ड है। विभाग का यह अभियान आगे भी जारी रहेगा। केंद्रीय वित्त मंत्री ने एनपीए वसूलने पर उत्तराखंड सरकार को बधाई दी है साथ ही कहा है कि उत्तराखंड सहकारिता विभाग का एनपीए वसूलने का फार्मूला अन्य राज्यों में भी लागू किया जाएगा। 



यह बात सहकारिता, उच्च शिक्षा, दुग्ध विकास एवं प्रोटोकाॅल राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डाॅ. धन सिंह रावत ने मियांवाला में निबंधक सहकारी समिति उत्तराखंड के मुख्यालय एवं निबंधक कार्यालय सभागार कक्ष का लोकार्पण के दौरान कही। कार्यक्रम के दौरान डाॅ.रावत ने बताया कि प्रदेश भर में डिस्ट्रिक्ट कोआपरेटिव बैंक की 72 नई शाखाएं खोली जाएंगी। 670 पैक्स समितियों में कृषि ऋण मेले लगेंगे, जिसमें सांसद, स्थानीय विधायक, ब्लाक प्रमुख व जनप्रतिनिधि उद्घाटन करेंगे। उन्होंने कहा कि शून्य ब्याज दर पर 1 लाख किसानों को ऋण उपलब्ध किया जायेगा। 



लोकार्पण समारोह में मंत्री डाॅ धन सिंह रावत ने कहा कि सरकार ने सहकारिता के क्षेत्र में ऐतिहासिक कार्य किये। उन्होंने बताया कि आगामी मार्च माह तक सहकारिता की सभी 670 पैक्स समितियों का कंप्यूटराइजेशन का काम पूरा हो जाएगा। सरकार किसानों, बेरोजगारों को बिना ब्याज पर ऋण उपलब्ध करा रही है, इसके लिए प्रदेश के सभी 13 जिला मुख्यालयों पर ऋण वितरण का कार्यक्रम आयोजित किये जा रहे है। अब तक ऊधमसिंह नगर एवं देहरादून जिलों में ऋण वितरण कार्यक्रम के माध्यम से किसानों, स्वयं सहायता समूहों को ऋण उपलब्ध कराया गया है। 

सहकारिता मंत्री डाॅ रावत ने कहा कि डिस्टिक कोआपरेटिव बैंक में समूह घ में 350 पदों पर भर्ती की जा रही है। इसमें पारदर्शिता बरती जायेगी। यदि किसी जिला सहायक निबंधक व बैंक के महाप्रबंधक के भर्ती करने में शिकायत आएगी, तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। सरकार ने पहले भी डिस्टिक कोआपरेटिव बैंकों में आईबीपीएस के माध्यम से लिपिक, मैनेजर की भर्ती पारदर्शिता से कराई थी।

सहकारिता मंत्री ने कहा की मार्च 2021 तक नए सहकारिता निबंधक भवन का भूमि पूजन हो जाएगा। इसमें आधुनिक सुविधाएं उपलब्ध होंगी। जिससे निबंधक कभी भी किसी भी समय सभी जनपदों के एआर और जीएम से सीधे लाइव जुड़ कर समीक्षा बैठक कर सकेंगे।

सहकारिता मंत्री डॉ रावत ने कहा कि एनपीए वसूली के लिए विशेष प्रयास किए गए हैं। बड़े अधिकारियों को सख्त निर्देश हैं कि जिस भी मैनेजर ने ऋण दिया है वह उस ऋण की वसूली करेगा, नहीं तो उस पर कार्रवाई होगी। जनपदों में अधिकारियों की समीक्षा बैठक के उपरांत एनपीए वसूली में तेजी आई है। 

लोकार्पण समारोह में उपसभापति उत्तराखंड राज्य सहकारिता परिषद हयात सिंह मेहरा, उत्तराखंड काॅर्पोरेशन रेशम फेडरेशन के अध्यक्ष चौधरी अजित सिंह, प्रादेशिक कोआपरेटिव यूनियन के प्रदीप चौधरी, उत्तराखंड आवास एवं निर्माण सहकारी संघ के चेयरमैन उपेंद्र चौधरी ने विभागीय मंत्री के ऐतिहासिक कामों की भूरि भूरि  प्रशंसा की और कहा उन्होंने सहकारिता विभाग में नए आयाम स्थापित किये, साथ ही किसानों के लिए कल्याणकारी योजनाएं संचालित की। 

इससे पहले निबंधक उत्तराखंड सहकारिता समिति बीएम मिश्र ने विभाग की प्रगति बताते हुए कहा कि सहकारिता का भवन बन जाने से लोगों को परेशान नहीं होना पड़ेगा। एक ही जगह निबंधक, अपर निबंधक, उपनिबंधक व अन्य अधिकारी आसानी से उपलब्ध हो जाएंगे। 

अपर निबंधक आनंद शुक्ल ने सभी सहकारी संस्थाओं के जनप्रतिनिधियों हर जनपद के एआर और जीएम के समारोह में आने पर धन्यवाद ज्ञापित किया। अपर निबंधक ईरा उप्रेती ने अतिथियों का स्वागत किया। लोकार्पण समारोह का संचालन उपनिबंधक श्री एमपी त्रिपाठी ने किया। 

टिप्पणियां