गोमुख से गंगासागर तक पुरातन संस्कृति को समेटे है मां गंगा : बंशीधर पोखरियाल

 


माध्यमिक विद्यालयों के राष्ट्रीय सेवा योजना व नमामि गंगे का संयुक्त कार्यक्रम 

एसके विरमानी /ऋषिकेश । राष्ट्रीय सेवा योजना प्रकोष्ठ ऋषिकेश परिक्षेत्र के माध्यमिक विद्यालयों के राष्ट्रीय सेवा योजना तथा नमामि गंगे के संयुक्त तत्वावधान में आज स्पर्श गंगा दिवस पर कार्यक्रम आयोजित किया गया।

कार्यक्रम में नमामि गंगे के प्रदेश संयोजक कपिल गुप्ता ने कहा कि मां गंगा स्वर्ग से अवतरित हैं तथा इनकी महत्ता को समझते हुए हमें इसको सदैव साफ एवं स्वच्छ रखना चाहिए।

कार्यक्रम के अध्यक्ष बंशीधर पोखरियाल ने कहा कि गंगा देवप्रयाग में अलकनंदा तथा भागीरथी के संगम से बनती है परंतु गोमुख से गंगासागर तक मां गंगा सबको आर्थिक, आध्यात्मिक, सांस्कृतिक एवं पुरातन संस्कृति को समेटे हुए सिंचित कर रही है|

यमकेश्वर क्षेत्र के जिला पंचायत सदस्य आरती गौड़ ने कहा की राष्ट्रीय सेवा योजना इकाई के छात्र छात्रा एवं कार्यक्रम अधिकारी पूरी लगन निष्ठा और सेवा भाव से समाज को संदेश देते हुए गंगा मैया की स्वच्छता के लिए अपना योगदान दे रहे हैं जो कि प्रेरणादाई है।

देहरादून जनपद के जिला समन्वयक दिले राम रवि ने कहा की ऋषिकेश परिक्षेत्र की राष्ट्रीय सेवा योजना इकाई के छात्र छात्रा एवं कार्यक्रम अधिकारी बहुत अच्छे कार्यक्रमों के द्वारा समाज को स्वच्छता, जन जागरूकता के लिए प्रेरित करते हैं जोकि अनुकरणीय है|

 सरस्वती विद्या मंदिर इंटर कॉलेज के कार्यक्रम अधिकारी रामगोपाल रतूड़ी ने सभी अतिथियों का आभार प्रकट करते हुए कहा कि हमें मां गंगा के प्रति आस्था रखते हुए स्वच्छता, जन जागरूकता और गंगा की निर्मलता के लिए सदैव प्रयासरत रहना चाहिए| कार्यक्रम अधिकारी ( आईडीपीएल इंटर कॉलेज) विजयपाल सिंह ने कहा कि गंगा की निर्मलता तभी रह सकती है जब हम गंगा की स्वच्छता के लिए काम करेंगे|कार्यक्रम का संचालन मनोज कुमार गुप्ता ने किया।

कार्यक्रम अध्यक्ष बंशीधर पोखरियाल, कार्यक्रम अतिथि कपिल गुप्ता (प्रदेश संयोजक नमामि गंगे) जिला समन्वयक डॉ0 दीलेराम रवि , नेहा नेगी (प्रदेश सह संयोजक) आरती गौड़ (जिला पंचायत सदस्य यमकेश्वर), मनोज गुप्ता, विजय पाल सिंह, जयकृत रावत, रामगोपाल रतूड़ी, ज्योति सडाना, कमला शर्मा, महेश शर्मा मोनिका रावत, अनिल नेगी, राजेश थपलियाल, पंकज गुप्ता, अनुराग अमोली, प्रकाश कुमार आदि मौजूद रहे। 

टिप्पणियां