उक्रांद ने पहाड़ के गांधी स्व. इन्द्रमणि बडोनी की जयंती को संकल्प दिवस के मनाया

स्व. बडोनी के जीवन संघर्ष से हमें प्रेरणा लेनी चाहिए : रतूड़ी 

भारतनमन / देहरादून। उत्तराखंड क्रान्ति दल ने पार्टी कार्यालय कचहरी रोड़  देहरादून में दल के संरक्षक  बी डी रतूडी  नेतृत्व में पहाड के गांधी स्व. इन्द्रमणि बडोनी श्रद्धांजलि अर्पित की। कार्यकर्ताओं ने घंटाघर स्थित स्व. बडोनी की प्रतिमा पर भी फूलमालाएं चढाकर उन्हें श्रद्धांजलि दी

 पार्टी कार्यालय में श्रद्धांजलि देते हुये गोष्ठी का आयोजन किया गया । गोष्ठी को संबोधित करते हुये श्री बीडी रतूड़ी ने बड़ोनी जी के जीवन पर प्रकाश डाला और कहा कि स्व०बड़ोनी जी के जीवन संघर्ष से हमे प्रेरणा लेनी चाहिये। उन्होंने उत्तराखंड राज्य आंदोलन की अगुवाई अहिंसक रूप से की। 

आज ही के दिन सन 1925 को ग्राम अखोडी टिहरी गढ़वाल स्व० सुरेशा नंद जी के ज्येष्ठ पुत्र के रूप में जन्म लिया । दल के केन्द्रीय प्रवक्ता सुनील ध्यानी ने बताया कि स्व. बड़ोनी जी को पहाड़ का गांधी क्यों कहा गया । उनमें नेतृत्व की क्षमता, संवाद के द्वारा लोगों को पक्ष में करना, राज्य आंदोलन को अहिंसक रूप से अगुवाई करने के कारण ही उनको पहाड़ के गांधी पुकारा गया। उनके जन्मदिवस को संस्कृति दिवस के रूप में सरकार मनाती है। संस्कृति दिवस का रूप मनाने का अर्थ है कि वे एक कुशल रंगकर्मी थे।पांडव नृत्य और माधो सिंह भंडारी का मंचन की शुरुआत स्व०बड़ोनी जी ने आरम्भ किया था। पहला मंचन उन्होंने मलेथा से शुरू किया था। इन नाटकों का मंचन व कुशल निर्देशन उन्होंने 26 जनवरी 1957 में दिल्ली में किया था।

इस अवसर पर  लताफत हुसैन,जय प्रकाश उपाध्याय,बहादुर सिंह रावत,देवेंद्र चमोली,रेखा मिंया,,शकुंतला रावत,जब्बर सिंह पावेल,राजेन्द्र बिष्ट,अशोक नेगी,किरन रावत कश्यप, शिव प्रसाद सेमवाल,सीमा रावत, अनिल डोभाल, ब्रजमोहन सजवाण,राकेश बिष्ट,सतीश नौटियाल,अंकेशभण्डारी,शैलेश खत्री, कमल कांत,अरबिंद बिष्ट,विनीत सकलानी,अरबिंद बिष्ट,विजेंदर रावत, आदि मौजूद थे।

इस अवसर पर स्व०बड़ोनी जी के जन्मदिवस से प्रेरणा लेते हुये  विशन कंडारी पूर्व जिला सह संयोजक सहकारिता प्रकोष्ठ टिहरी भाजपा,अमर सिंह धुंता आर टी आई एक्टिविस्ट, युवा दिगंबर सिंह ने उत्तराखंड क्रान्ति दल में शामिल हुये।

    

टिप्पणियां