महापौर के प्रयास से हटेगा कूड़े का पहाड़

अनिता ममगाई के राजनीतिक कौशल से तीन दशक पुरानी टचिंग ग्राउंड की समस्या का होगा समाधान 

मिशन 2021 में पांच मेगा प्रोजेक्ट पर काम करेगा निगम

एसके विरमानी / ऋषिकेश हरिद्वार रोड स्थित भूखंड पर टंचिग ग्राउंड की समस्या निस्तारण की और है। शहर वासियों को हरिद्वार रोड स्थित खाली भूखंड में लगे कूड़े के पहाड़ से मुक्ति मिल जायेगी। उक्त मास्टर स्ट्रोक की घोषणा नगर निगम महापौर ने निगम की दूसरी वर्षगांठ के अवसर पर गोविंद नगर स्थित टचिंग ग्राउंड में आयोजित कार्यक्रम के दौरान की।बुधवार को नगर निगम प्रशासन ने बिना किसी लावलश्कर के निगम की दूसरी वर्षगांठ पर सरकार की गाईडलाईन के अनुरूप कार्यक्रम आयोजित किया।लेकिन इसके बावजूद महापौर अपने विजन की झलक दिखाने में कामयाब रही। इस मौके पर उन्होंने 2021 के लिए पांच मेगा प्रोजेक्टर को धरातल पर उतारने की घोषणा भी की। आयोजित कार्यक्रम में उपस्थिति को संबोधित करते हुए महापौर ने कहा कि पिछले तीस वर्षों से शहर की सुंदरता पर दाग लगा रहा कूड़े का यह पहाड़ गोविंद नगर और शांति नगर क्षेत्र के हजारों लोगों के लिए जी का जंजाल बन चुका था। कूड़े के साम्राज्य के चलते पिछले तीन दशकों से क्षेत्रवासी नरकीय जीवन जीने को विवश थे। जिसको लेकर अनेकों बार आंदोलन भी चलाए गए।लेकिन जनप्रतिनिधियों की उदासीनता और सरकार में कमजोर पकड़ के चलते समस्या जस की तस बनी रही।लेकिन मजबूत राजनीतिक इरादों और निगम अधिकारियों के सहयोग के चलते वह मेगा प्रोजेक्ट पर डटी रही अब नतीजा सबके सामने है। आज इस शुभ दिन में सारी अड़चनें दूर करते हुए इस योजना को धरातल में उतारने के लिए टेंडर आमंत्रित किया गया है।

उन्होंने बताया कि कूड़े के ढेर का निस्तारण एवं शहर से बाहर ट्रेंचिंग ग्राउंड की व्यवस्था सुनिश्चित करवाना यह चुनावी घोषणापत्र का पहला हमारा एजेंडा था। मेयर की शपथ लेने के उपरांत ही 2 दिसंबर 2018 की शाम को बोर्ड की बैठक में यह प्रस्ताव लाया गया की गोविंद नगर में स्थित ट्रेंचिंग ग्राउंड आबादी से दूर अन्यत्र स्थानांतरित किया जायेगा।उन्होंने बताया कि अप्रैल 2019 मैं शासन से कूड़ा निस्तारण की डीपीआर बनी। जिसके अनुसार ग्राउंड में लगभग 2.7 लाख मैट्रिक टन कूड़ा है। जिसकी कैपिंग करने के लिए 19 करोड रुपए का व्यय का आंकलन किया गया ।मेयर ममगाई के अनुसार निगम के पास गोविंद नगर स्थित टचिंग ग्राउंड के अलावा इस कार्य हेतु और कोई भूमि उपलब्ध नहीं थी। इसलिए निगम प्रशासन नए ट्रेंचिंग ग्राउंड लाल पानी बीट की भूमि अधिकरण की औपचारिकता पूरी करने में जुटा रहा।

इसमें भी उत्तराखंड राज्य वन जीव बोर्ड की बैठक में स्वीकृति के तमाम अड़चनों पर विराम लग चुका है।महापौर के अनुसार गोविंद नगर स्थित ट्रेचिंग ग्राउंड के पूरे वेस्ट को ज़ीरो करेंगे ।कूड़ा निस्तारण की प्रक्रिया में जो भी बायप्रोडक्ट निकलेगा जैसे आरडीएफ,खाद,मिट्टी आदि उसका निस्तारण भी टेंडर लेने वाली कंपनी ही करेगी।

30 साल से शहर में अभी तक कूड़ा सिर्फ डंप हो रहा था पहली बार कूड़े का निस्तारण होने जा रहा है।इस मौके पर महापौर ने वर्ष 2021 के लिए अपने रोड मैप की घोषणा भी की उन्होंने बताया कि संजय झील का निर्माण ,गंगा की जलधारा को बारहोमास त्रिवेणी घाट पर लाना, पार्किंग का निर्माण ,बैराज जलाशय में वाटर स्पोर्ट्स शुरू कराना एवं ऋषिकेश राजकीय चिकित्सालय की चिकित्सा व्यवस्था में सुधार करना उनके लक्ष्य में शामिल है। इन पांचों योजनाओं का खाका नगर निगम प्रशासन द्वारा तैयार किया जा चुका है ।कुछ योजनाओं को धरातल पर लाने के लिए तेजी के साथ कार्य भी शुरू हो गया है ।निगम की तीसरी वर्षगांठ के मौके पर उन्हें पूर्ण विश्वास है कि यह पांचों योजनाएं धरातल पर आ जाएंगी।

इस अवसर पर नगर आयुक्त नरेंद्र क्वीरियाल, क्षेत्रीय शिव कुमार गौतम, पार्षद अजीत सिंह,पार्षद राजेंद्र बिष्ट, पार्षद विजय बडोनी, पार्षद मनीष बनवाल, पार्षद कमलेश जैन, पार्षद अनीता प्रधान, पार्षद विजेंदर मोघा, पार्षद विजय बडोनी,पंकज शर्मा,अनिकेत गुप्ता, गौरव केन्थुला, प्रिया धक्काल, सहायक नगर आयुक्त एलम दास, सहायक अभियंता आनंद मिस्र वान, पार्षद बीरेंद्र रमोला,पार्षद विपिन पंत, पार्षद चेतन चौहान,पार्षद राजेश दिवाकर, प्रदीप धस्माना, पवन शर्मा, राजीव गुप्ता, संजय बर्मा,राजेश गौतम, देवदत्त शर्मा आदि मौजूद रहे। 

टिप्पणियां