होम्योपैथिक फार्मासिस्टों की स्थाई नियुक्ति की जाये



होम्योपैथिक बेरोजगार डिप्लोमा फार्मासिस्ट संघ  का विधानसभा अध्यक्ष को पत्र 

एसके विरमानी / ऋषिकेश 9 जनवरी। होम्योपैथिक बेरोजगार डिप्लोमा फार्मासिस्ट संघ उत्तराखंड के एक शिष्टमंडल ने उत्तराखंड विधानसभा अध्यक्ष श्री प्रेमचंद अग्रवाल से शिष्टाचार भेंट की।इस दौरान शिष्टमंडल द्वारा एलोपैथिक विभाग के अंतर्गत स्थापित 180 राजकीय एलोपैथिक चिकित्सालय में होम्योपैथिक विंग की स्थापना एवं उनमें चिकित्सा अधिकारी और होम्योपैथिक फार्मासिस्टों की स्थाई नियुक्ति के संबंध में प्रार्थना पत्र भी सौंपा।

विधानसभा अध्यक्ष के बैराज स्थित कैंप कार्यालय में आज होम्योपैथिक बेरोजगार डिप्लोमा फार्मेसी संघ उत्तराखंड के पदाधिकारियों ने विधानसभा अध्यक्ष को अवगत किया कि संघ अपनी मांगों को शासन के सम्मुख अनुशासित तरीके से रखता आ रहा है फिर भी शासन एवं सरकार द्वारा उनकी मांगों को मंजूरी नहीं मिल पा रही है जिससे राज्य में होम्योपैथी जैसी लोकप्रिय चिकित्सा पद्धति को विस्तार नहीं मिल पा रहा है।

विधानसभा अध्यक्ष को अवगत किया गया कि प्रदेश में वर्ष 2011 से संचालित होम्योपैथिक फार्मेसी डिप्लोमा कॉलेज से उत्तीर्ण लगभग 200 छात्र-छात्राएं वर्तमान समय में बेरोजगार हैं जिस हेतु संघ द्वारा 180 राजकीय एलोपैथिक चिकित्सालय में होम्योपैथिक विंग की स्थापना एवं उनमें होम्योपैथिक फार्मासिस्ट की स्थाई नियुक्ति की जाए, शिष्टमंडल ने अवगत किया कि होम्योपैथिक चिकित्सा पद्धति में अनेक ऐसे असाध्य रोग हैं जिनका पूर्ण इलाज मात्र और मात्र होम्योपैथिक चिकित्सा से ही संभव है।कोरोना एवं अन्य महामारी में भी यह पद्धति जनप्रिय है इस अवसर पर शिष्टमंडल ने विधानसभा अध्यक्ष से अनुरोध किया कि उनकी समस्या पर विचार कर एवं सरकार से बात कर समस्या का हल निकाल कर बेरोजगारों को रोजगार प्रदान किया जाय।

इस अवसर पर विधानसभा अध्यक्ष ने भी शिष्टमंडल को आश्वस्त करते हुए कहा कि वह इस संबंध में उचित कार्यवाही हेतु मुख्यमंत्री से वार्ता करेंगे एवं समस्या का समाधान निकालने का पूरा प्रयास करेंगे।इस अवसर पर संघ के अध्यक्ष नीलम चौहान, राहुल गैरोला, पवन नेगी, सुरेश जोशी, सिद्धार्थ नेगी, तुलसी नेगी, रिंकी नेगी, निकिता गुसाईं सहित अन्य लोग उपस्थित थे।

टिप्पणियां