बसंत पंचमी पर श्रद्धा और उल्लास से निकली डोली यात्रा, महापौर ने की शहर की सुख-समृद्धि की कामना

एसके विरमानी / ऋषिकेश। बसंत पंचमी के पावन पर्व पर श्री भरत मंदिर से हृषिकेश भगवान यानी भरत जी महाराज की डोली यात्रा श्रद्वा और उल्लास से निकाली गई। श्रद्धालुओं ने यात्रा मार्ग पर पुष्प वर्षा कर डोली का स्वागत किया। इस पावन मौके पर नगर की प्रथम नागरिक महापौर अनिता ममगाई ने प्राचीनतम श्री भरत मंदिर में परिक्रमा कर देवभूमि की खुशहाली की मंगल कामना की।



महापौर ने बताया कि पौराणिक मान्यता है कि बसंत पंचमी के दिन ही आद्य गुरु शंकराचार्य ने मायाकुंड गंगा में रखी गई भगवान की मूर्ति को श्री भरत मंदिर में पुनःस्थापित किया था। तभी से बसंत पंचमी पर उनकी डोली यात्रा निकालने की परंपरा रही है। पर्व पर झंडा चौक स्थित श्री भरत मंदिर में विधिवत पूजा अर्चना के पश्चात भगवान भरत जी की डोली निकाली गई। महंत वत्सल प्रपन्न शर्मा महाराज ने डोली की पूजा अर्चना की। श्री भरत मंदिर परिवार की ओर से हर्षवर्धन शर्मा व वरुण शर्मा ने डोली की अगुवानी की। पुराने बद्रीनाथ मार्ग, मायाकुंड से होकर डोली त्रिवेणी घाट पहुंची। यहां डोली को गंगा स्नान कराया गया, तत्पश्चात डोली पुन: मंदिर परिसर में पहुंची। डोली यात्रा मार्ग पर श्रद्धालुओं ने डोली की पूजा अर्चना की। डोली यात्रा में पार्षद विजय बडोनी, विजेन्द्र मोघा, विजय लक्ष्मी,मनीष बनवाल, संजीव आदि शामिल रहे।

टिप्पणियाँ