'' जीवनशैली में बदलाव कर कैंसर से बचाव संभव''



एम्स ऋषिकेश में विश्व कैंसर दिवस पर जनजागरुकता कार्यक्रम 

 एसके विरमानी / ऋषिकेश। अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स ऋषिकेश में विश्व कैंसर दिवस पर जनजागरुकता कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस अवसर पर विशेषज्ञों ने कैंसर के कारक, बचाव एवं सावधानियों पर व्याख्यानमाला प्रस्तुत की। कैंसर प्रवेंशन इन इंडियन कंटैक्स्ट विषय पर विशेषज्ञों की सामूहिक चर्चा में लोगों को कैंसर के निदान संबंधी जानकारियां दी गई। उधर राज्य सरकार की ओर से विश्व कैंसर दिवस पर आयोजित जनजागरुकता कार्यक्रम के अंतर्गत एम्स ऋषिकेश की ओर से आयोजित साइकिल जनजागरण रैली को एम्स निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत  ने हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। रैली में संस्थान के फैकल्टी मेंबर्स, चिकित्सकों व अन्य स्टाफ के प्रतिनिधियों ने बढ़चढ़कर हिस्सा लिया। 



 इस अवसर पर एम्स निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत  ने बताया कि जीवनशैली में परिवर्तन से किस तरह से विभिन्न प्रकार के कैंसर की बीमारी से बचाव किया जा सकता है। साथ ही उन्होंने यह भी बताया कि कुछ कैंसर वैक्सीन द्वारा भी रोके जा सकते हैं जिनमें प्रमुख रूप से बच्चेदानी के कैंसर हैं। ​ डीन एकेडमिक प्रो. मनोज गुप्ता  ने बताया कि तम्बाकू व धूम्रपान भारत में होने वाले कैंसर का प्रमुख कारण है और इन पदार्थों का सेवन नहीं करने से भारत में होने वाले एक तिहाई कैंसर को कम किया जा सकता है। उन्होंने बताया कि कैंसर का इलाज संभव है, किसी भी बड़ी मेडिकल संस्थान जहां कैंसर उपचार उपलब्ध है वहां समय पर इलाज कराने से मरीज रोगमुक्त हो सकता है। बृहस्पतिवार को वर्ल्ड कैंसर डे के अवसर पर एम्स के कैंसर विभाग की ओर से संयुक्तरूप से कार्यक्रम आयोजित किया गया। जिसमें कैंसर से बचाव पर विशेषज्ञों संस्थान की वरिष्ठ सर्जन व आईबीसीसी प्रमुख प्रोफेसर बीना रवि , डा. राजेश पसरीचा , डा. अमित सहरावत , डा. प्रदीप कुमार गर्ग जी, कॉलेज ऑफ नर्सिंग की प्राचार्य डा. वसंता कल्याणी , डा. अनु अग्रवाल  आदि ने विमर्श किया। इस दौरान भारत में प्रतिवर्ष सामने आने वाले कैंसर के मामलों, महिलाओं व पुरुषों में पाए जाने वाले पांच प्रकार के कॉमन कैंसर, कैंसर की बीमारी का प्रारंभिक अवस्था में पता लगाने व उसके निदान आदि बिंदुओं पर विशेषज्ञों द्वारा गहन चर्चा की गई। उन्होंने कहा ​कि वर्तमान जीवनशैली में बदलाव से काफी हद तक कैंसर की बीमारी से बचाव संभव है। साथ ही उन्होंने लोगों से कैंसर से सुरक्षा के लिए शराब, धूम्रपान, गुटखा, तम्बाकू आदि नशीले पदार्थों का कदापि सेवन नहीं करने की अपील भी की। विशेषज्ञों की सामुहिक चर्चा के दौरान लोगों ने उनसे कैंसर से संबंधित कई प्रश्न पूछे, जिनका एक्सपर्ट द्वारा समाधान किया गया। इस अवसर पर डीन हॉस्पिटल अफेयर्स प्रो. यूबी मिश्रा, प्रोफेसर एसके अग्रवाल , प्रो. ब्रिजेंद्र सिंह , प्रो. वीके बस्तिया , प्रो. एनके बट्ट , रूचिका रानी , डा. रचित आहूजा,सुरेश गाजी,डा.अंकित अग्रवाल आदि मौजूद थे।

टिप्पणियां