परमहंस स्वामी रामतीर्थ के ओजस्वी व्याख्यानों को अब आमजन भी पढ़ सकेंगे



नरेंद्रनगर में हुआ स्वामी रामतीर्थ जीवन दर्शन पुस्तक का विमोचन

स्वामी जी के व्याख्यानों से युवा पीढ़ी में देशप्रेम की भावना जागृत होगी:मनुज्येंद्र 

 भारतनमन/ नई टिहरी। संसार भर में वेदांत का प्रचार-प्रसार करने वाले परमहंस स्वामी रामतीर्थ के अमेरिका, जापान और मिस्र में दिए ओजस्वी व्याख्यानों को आमजन पढ़ सकेंगे। दो दिन पहले वसंत पंचमी के पावन मौके पर नरेद्रनगर स्थित राजमहल में टिहरी महाराजा मनुज्येंद्र शाह, बदरीनाथ रावल ईश्वरी प्रसाद नम्बूदरी, टिहरी सांसद और महारानी राज्यलक्ष्मी शाह, पौड़ी सांसद तीरथ सिंह रावत, पूर्व मंत्री मोहन सिंह गांववासी और ठाकुर भवानी प्रताप सिंह ने संयुक्त रूप से स्वामी रामतीर्थ जीवन दर्शन पुस्तक का विमोचन किया। महाराजा मनुज्येंद्र शाह ने कहा कि स्वामी रामतीर्थ के ओजस्वी व्याख्यानों से युवा पीढ़ी के मन मंदिर में देशप्रेम की भावना जागृत होगी। 

टिहरी सांसद महारानी राज्यलक्ष्मी शाह ने कहा कि स्वामी रामतीर्थ ने विदेशों में जाकर भारतीय संस्कृति और अध्यात्मवाद का शंखनाद किय जिसके फलस्वरूप पश्चिमी जगत में भारतवर्ष के प्रति सम्मान बढ़ा और वेदांत दर्शन के प्रति आस्था जागृत हुई।  उन्होंने कहा कि भारतीय समाज के जागरूक प्रहरी स्वामी रामतीर्थ ने संपूर्ण मानव जाति को देश प्रेम की भावना, समाजवादी विचारधाराए नारी उत्थान आदि उदात्त भावनाओं से परिचित कराया, जिससे दीर्घकाल तक भारतीय समाज उनका ऋणी रहेगा। 

पौड़ी सांसद तीरथ सिंह रावत ने कहा कि वेदांत कोई मत या मजहब न होकर एक प्रकाश गृह है, जिसकी आवश्यकता हर एक आदमी को है। पूर्व काबीना मंत्री मोहन सिंह रावत गांववासी और ठाकुर भवानी प्रताप सिंह ने कहा कि भारतीय समाज के जागरुक प्रहरी स्वामी रामतीर्थ ने चारित्रिक, मानसिक, षारीरिक, नैतिक ,आध्यात्मिक विकास पर बल देकर इसकी महता प्रतिपादित की

टिप्पणियाँ