उत्तराखंड में 24 घन्टे 49 मौत,4339 नये कोरोना पाजीटिव

आक्सीजन की व्यवस्था के लिए डिप्टी कलेक्टर प्रेमलाल प्रभारी अधिकारी 

निजी अस्पतालों में 70 प्रतिशत बिस्तर कोविड मरीजों के लिए आरक्षित 


भारतनमन / देहरादून। देश के विभिन्न राज्यों की तरह उत्तराखंड में कोरोना संक्रमण लगातार बढता जा रहा है। नाइट कर्फ्यू और बाजारों के दिन में दो बजे बंद हो जाने के बाद भी  कोई सुधार होता नहीं दिख रहा। शुक्रवार को भी प्रदेशभर में 4000 से अधिक नये मरीज आने और 24 घंटे में 49 लोगों की मौत हो जाने के बाद तो यही कहा जा सकता है। स्टेट कोरोना कन्ट्रोल रूम कोविड 19 के हैल्थ बुलेटिन के अनुसार आज प्रदेशभर में कोरोना के 4339 नये मरीज मिले जबकि 49 लोगों की मौत हो गयी। इस बीच सरकार कोरोना से बिगड़ती स्थिति को संभालने के लिए और कोशिश करती दिखी। देहरादून के जिलाधिकारी द्वारा आक्सीजन की व्यवस्था के लिए डिप्टी कलेक्टर /उप जिला मजिस्ट्रेट (मुख्यालय ) प्रेमलाल को प्रभारी अधिकारी (आक्सीजन प्रबंधन) का अतिरिक्त दायित्व सौपा गया वहीं जनपद में अव्यवस्थित समस्त निजी अस्पतालों में 70 प्रतिशत बेड कोविड मरीजों के लिए आरक्षित करने के निर्देश जारी किए।

प्रदेश में 24 घन्टे में आये 4339 नये कोरोना मरीजों के साथ ही आंकडा 142349 पर पहुंच गया। अब तक स्वस्थ हुए मरीजों की संख्या 107450 है जबकि वर्तमान में एक्टिव मरीजों की संख्या बढकर 29949 हो गयी। प्रदेश भर में 24 घन्टे में 49 लोगों की मौत हो गयी। रिकवरी रेट 75. 48% रह गया है।

देहरादून जनपद में सबसे ज्यादा 1605 और हरिद्वार में 1115 नये केस

जनपदवार आये ताजा मरीजों का आंकडा देखें तो आज फिर देहरादून जनपद सबसे ऊपर है। देहरादून में 1605 मरीज आये जबकि दूसरे नंबर पर रहे हरिद्वार में 1115 मरीजों की रिपोर्ट पाजीटिव आयी। 

और देखें-


इस बीच आज देहरादून के जिलाधिकारी ने आक्सीजन की व्यवस्था के लिए प्रभारी अधिकारी नियुक्त कर दिया। डिप्टी कलेक्टर प्रेमलाल (मुख्यालय को) यह जिम्मेदारी दी गयी। इसके साथ ही जिला उद्योग केंद्र के महाप्रबंधक शिखर सक्सेना को नोडल अधिकारी तथा जिला पूर्ति अधिकारी जसवंत सिंह कंडारी को सह नोडल अधिकारी बनाया गया। ये दोनों अधिकारी प्रभारी अधिकारी प्रेमलाल के निर्देशन में आक्सीजन की व्यवस्था देखेंगे।

इसके साथ ही जिलाधिकारी द्वारा जनपद के समस्त निजी अस्पतालों में 70 प्रतिशत बिस्तर कोरोना मरीजों के लिए आरक्षित करने के निर्देश दिए गए हैं। 

अस्पतालों की सूची -



टिप्पणियां