अब डरा रहा कोरोना

मंगल को कोरोना का कोहराम, 1925 नये मामले

देहरादून में 775 और हरिद्वार में 594 मरीज आये 

@नरेश रोहिला 

मुख्यमंत्री ने भले ही त्यौहार और शादी- ब्याह के समारोहों को देखते हुए नाइट कर्फ्यू में आधे घंटे की राहत दे दी हो लेकिन प्रदेश और खासकर देहरादून, हरिद्वार, नैनीताल और उधमसिंह नगर के लोगों को कोरोना संक्रमण से बचाव को लेकर बहुत ज्यादा सावधानी बरतनी होगी, इसलिए भी क्योंकि कोरोना की दूसरी लहर में भी इन्हीं जनपदों  में सबसे अधिक मरीजों के मिलने का सिलसिला जारी है और संक्रमण लगतार बढता जा रहा है। पिछले दिनों कई तरह मंगलवार को भी यह सिलसिला जारी रहा बल्कि संक्रमण का खतरा और गहरा होता दिखाई दिया। मंगलवार को देहरादून में रिकार्ड 775 मरीजों सहित प्रदेश भर में 1925 नये संक्रमित मिले जबकि 24 घंटे में 13 लोगों की मौत हो गयी। माने तो यह पिछले साल भर में प्रदेश में किसी एक दिन में आये कोरोना मरीजों की सबसे बडी संख्या है और यह आंकडे वाकई अब डरा रहे हैं।


 देहरादून में सबसे ज्यादा 775 मरीज के साथ ही हरिद्वार में 594, नैनीताल में 217और उधमसिंह नगर में 172 नये केस आये।

इसके अलावा अल्मोड़ा में 31,बागेश्वर में 14,चमोली में 8,चम्पावत में 21, पौड़ी गढ़वाल में 33,पिथौरागढ़ में 13, रूद्रप्रयाग में 12,टिहरी गढ़वाल में 35और उत्तरकाशी में कोरोना का 1 पाजीटिव मरीज मिला।

बहरहाल जिस तरह से हर रोज संक्रमण बढता जा रहा है उसे देखते हुए आमोखास को बेहद ज्यादा सावधानी बरतने की जरूरत है जो अभी तक दिखाई नही दे रही। पिछले के लाकडाउन की अवधि और उसके बाद थोडे और समय को छोड दें तो हम महामारी के प्रति एकदम लापरवाह हो गये। मास्क या तो गायब हो गया या फिर वह मुंह और नाक से हटकर ठुड्डी पर अटक गया। सार्वजनिक स्थानों पर भीड़भाड़ बढती गयी। सोशल डिस्टेंसिंग सिर्फ और सिर्फ कहने भर को रह गयी। संभवत:लोगों ने यह मान लिया कि महामारी पर फतेह पा ली गयी। वैक्सिनेशन शुरू होने के बाद तो लोग बिल्कुल निश्चिंत हो गये कि अब तो बीमारी होगी ही नही लेकिन कोरोना ने ऐसा रिटर्न किया पिछले साल का रिकॉर्ड तोड रहा है। 

राज्य के हरिद्वार में कुंभ चल रहा है और लाखों श्रद्धालु आ रहे हैं। हालांकि कोरोना को देखते हुए इस कुंभ को भी बेहद सीमित किया गया है और तमाम सावधानी बरतने की कोशिश की जा रही। ऐसा शासन प्रशासन का दावा है लेकिन स्नान पर्वों पर सोशल डिस्टेंसिंग तो दिखाई नही दे रही है और शायद यह संभव भी नही लेकिन लोगों को अपने और दूसरों के स्वास्थ्य का ध्यान रखते नियमों का खुद पालन करना चाहिए। कहीं ऐसा न हो कुंभ के बाद संक्रमण और  विकराल रूप दिखाए। इसलिए यह जरूरी हो जाता है कि हम खुद समझदार बने और कोरोना संक्रमण से बचाव को लेकर गाइडलाइन का पालन करे अन्यथा अभी नाइट कर्फ्यू लगाया है वह दिन में भी न सरकार को लगाना पड जाये। 

इसलिए सावधानी बरतें, मास्क लगाएं, सामाजिक दूरी के नियम को अपनाएं। जब जरूरी हो तभी बाहर जायें। 


देहरादून में नये हाटस्पाट 

इस बीच कोरोना संक्रमित व्यक्तियों के मिलने के बाद जिलाधिकारी देहरादून ने जनपद के तीन और स्थानों को कंटेनमेंट जोन घोषित किया है जबकि एक क्षेत्र को कंटेनमेंट जोन से मुक्त किये जाने के आदेश दिये हैं।

जिलाधिकारी डाॅ आशीष कुमार श्रीवास्तव ने  कोरोना पाजीटिव मरीजों के मिलने के बाद देहरादून में 74/19 राजपुर रोड, सी -177 गोविंद नगर रेसकोर्स और मसूरी के तिब्बतन होम बिल्डिंग चार्लिमाउण्ट चमन एस्टेट में कंटेनमेंट जोन घोषित किया गया है। इन इलाकों में अगले आदेश तक लाकडाउन रहेगा और सभी लोग अपने घरों में रहेंगे।

गीता कुटीर कंटेनमेंट जोन से मुक्त 

इसके साथ ही जिलाधिकारी ने ऋषिकेश के गीता कुटीर क्षेत्र में पिछले 14 दिनों में कोरोना संक्रमण न मिलने के बाद उसे कंटेनमेंट जोन से मुक्त कर दिया है।



टिप्पणियां