देहरादून बना सबसे बड़ा हाटस्पाट, एक दिन में आये 3979 कोविड केस


प्रदेश भर में शुक्रवार को मिले 9642 नये मरीज, 137 हारे जिंदगी की जंग

 नरेश रोहिला/ देहरादून। दस दिन से अधिक समय से चल कोविड कर्फ्यू के बाद भी उत्तराखंड और विशेष रूप से देहरादून में कोरोना की दूसरी लहर थमने का नाम नहीं ले रही और रोज पहले दिन के मुकाबले मरीज बढते जा रहे हैं।उत्तराखंड में जनपद देहरादून तो सबसे बड़ा हाटस्पाट बनता जा रहा है। स्टेट कोरोना कन्ट्रोल रूम कोविड 19 के हैल्थ बुलेटिन के शुक्रवार को भी राज्य 9642 नये केस सामने आये जबकि 137 कोरोना के सामने जिंदगी की जंग हार गए।

राज्य में देहरादून जनपद सबसे बड़ा हाटस्पाट बनता जा रहा है। पिछले 24 घंटे में देहरादून में सबसे अधिक 3979 लोगों की कोरोना टेस्ट रिपोर्ट पाजीटिव आयी। हरिद्वार में 786,नैनीताल में 1342,और उधमसिंह नगर में 1282 मरीजों का बडा आंकडा आया। आज जहां धार्च्यूला विधायक हरीश धामी की बेटी का निधन हो गया वहीं पत्रकारों ने अपने एक साथी राजेन्द्र जोशी को खो दिया। राजेन्द्र जोशी कोरोना संक्रमित थे और उनका एक निजी अस्पताल में इलाज चल रहा था जहां उनका निधन हो गया। 

जनपदवार स्थिति भी देखें - 

कोविड केयर सेन्टर का निरीक्षण किया सीएम ने 

इस बीच आज मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने रायपुर स्पोर्ट्स स्टेडियम में बनाए गए कोविड केयर सेन्टर का निरीक्षण किया। मुख्यमंत्री ने वहांं की व्ययवस्थाओं पर संतोष व्यक्त किया। 

कोविड केयर सेन्टर का निरीक्षण करते मुख्यमंत्री 







रायपुर स्थित कोविड केयर सेंटर का निरीक्षण करने के बाद मुख्यमंत्री ने ऋषिकेश आईडीपीएल में निर्माणाधीन 500 बेड के कोविड अस्पताल का निरीक्षण किया। इस दौरान डीआरडीओ के अधिकारियों ने मुख्यमंत्री जी को निर्माणाधीन अस्पताल के पूरे ले-आउट से अवगत कराया। अधिकारियों ने बताया कि अस्पताल को दो सेक्टर में बांटा गया है जिसमें 250-250 बेड की व्यवस्था की गई है। अस्पताल में लिक्विड पेट्रोलियम प्लांट लगाने के साथ ही यहां 24 घंटे बिजली बैकअप की व्यवस्था की गयी है। इसके अलावा फार्मेसी, लैब की भी व्यवस्था की जा रही है। मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए कि जल्द से जल्द निर्माण कार्य पूरे कर लिए जाएं। यह युद्ध की स्थिति है और हमें कोई भी कमी नहीं छोड़नी है। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार से जो सहयोग की आवश्यकता है उसके बारे में तत्काल बताया जाए।

एम्स में तैयारियों की जानकारी लेते मुख्यमंत्री 


 





एम्स में की बैठक 

मुख्यमंत्री ने ऋषिकेश एम्स पहुँचकर यहां निदेशक प्रोफेसर रविकांत एवं उनकी टीम के साथ तैयारियों को लेकर बैठक भी की। मुख्यमंत्री ने इस दौरान अस्पताल में उपलब्ध ऑक्सीजन बेड, वेंटिलेटर आदि के बारे में जानकारी ली। उन्होंने कहा कि अस्पतालों को निर्देशित किया गया है कि वे 24 घंटे पहले अपनी ऑक्सीजन जरूरतों के लिए प्रशासन को अवगत कराएं ताकि अफरा तफरी की स्थिति न बने। मुख्यमंत्री ने कोविड महामारी से जंग में जुटे सभी डॉक्टरों व पैरामेडिकल स्टाफ का आभार भी जताया। मुख्यमंत्री को एम्स निदेशक ने बताया कि वर्तमान में अस्पताल में कम क्षमता के ऑक्सीजन प्लांट हैं जिसे बढ़ाने की आवश्यकता है। एम्स निदेशक ने कहा कि अस्पताल में 40 हजार लीटर के ऑक्सीजन प्लांट की आवश्यकता है जिस पर मुख्यमंत्री ने इस मामले में सकारात्मक कार्रवाई का भरोसा दिलाया। इस अवसर पर विधानसभा अध्यक्ष प्रेम चंद अग्रवाल, ऋषिकेश की मेयर अनिता ममगाईं आदि उपस्थित रहे।


टिप्पणियाँ