जिलाधिकारी ने की मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना की समीक्षा


भारतनमन / देहरादून। जिलाधिकारी डाॅ आर राजेश कुमार की अध्यक्षता में मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना की समीक्षा बैठक आयोजित की गयी। बैठक में जिला प्रोबेशन अधिकारी द्वारा योजना के अन्तर्गत चिन्हित किये गये बच्चों के आवदेनों और इस सम्बन्ध में की जा रही अग्रिम प्रगति से जिलाधिकारी और समिति के सदस्यों को अवगत कराया। 

  जिलाधिकारी ने इस सम्बन्ध में सभी उप जिलाधिकारियों को निर्देशित किया कि कोविड-19 की अवधि में जिन बच्चों के माता और पिता दोंनों की मृत्यु हो गई है और बच्चों की उम्र 18 वर्ष से नीचे है उन सभी बच्चों को मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना का लाभ दिलाने के लिए इसके लिए लगने वाली समस्त औपचारिकताएं जैसे आधार कार्ड, मृत्यु प्रमाण पत्र, मृत्यु का कारण, स्थायी निवास, 18 वर्ष से नीचे के बच्चों का उनके संरक्षण के साथ संयुक्त खाता खुलवाना इत्यादि समस्त औपचारिकताओं को शासनादेश के अनुसार पूरी कराते हुए आवेदन को शीघ्रता से जिला प्राबेशन कार्यालय में जमा करायें साथ ही 18 वर्ष से कम उम्र के ऐसे बच्चे जिनके माता और पिता दोंनो का स्वर्गवास हो चुका है उनकी बराबर निगरानी करते हएु यह सुनिश्चित करें कि उनका किसी भी तरह शोषण ना होने पाये तथा उनकी पैतृक सम्पत्ति पर किसी भी तरह की आंच ना आने पाये। साथ ही उनकी जीविका, सुरक्षा, शिक्षा हेतु वैकल्पिक व्यवस्था करने के निर्देश दिये। उन्होने जिला प्रोबेशन अधिकारी को निर्देश दिये कि मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना के लाभार्थियों के आवेदन प्राप्त करने हेतु समस्त उप जिलाधिकारियों और बाल विकास विभाग से समन्वय करें तथा किसी भी प्रकार की शंका का समाधान हेतु टोल फ्री न0 जारी करें जिससे आवेदन भरने तथा औपचारिकतायें पूरी करने में लोग सहायता ले सकें। जिसके फलस्वरूप जिला प्रोबेशन अधिकारी ने अवगत कराया कि मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना के तहत् आवेदन भरने, आवेदन की औपचारिकतायें पूरी करने इत्यादि के सम्बन्ध में यदि किसी को कोई शंका हो तो कोई भी व्यक्ति टोल फ्री न0 181 अथवा चाइल्ड हेल्पलाईन न0 1098 पर अपनी क्वैरी बता सकता है।

  इस दौरान बैठक में मुख्य विकास अधिकारी नितिका खण्डेलवाल, मुख्य शिक्षा अधिकारी डाॅ मुकुल सती, जिला पूर्ति अधिकारी जसंवत सिंह कण्डारी, जिला प्रोबेशन अधिकारी मीना बिष्ट, जिला कार्यक्रम अधिकारी बाल विकास डाॅ अखिलेश मिश्रा, जिला माध्यमिक शिक्षा अधिकारी राजेन्द्र रावत आदि उपस्थित थे। 


टिप्पणियाँ