राम जन्मभूमि आंदोलन में जेल जाने वाले रामसेवकों का सम्मान



एसके विरमानी / ऋषिकेश 5 अगस्त।अयोध्या में राम मंदिर भूमि पूजन की पहली वर्षगांठ पर आज विधानसभा अध्यक्ष के बैराज स्थित कैंप कार्यालय में एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया।इस अवसर पर राम जन्मभूमि आंदोलन के दौरान जेल जाने वाले राम सेवकों को उत्तराखंड विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल ने शाल ओढ़ाकर एवं पुष्पगुच्छ भेंट कर सम्मानित किया।इस अवसर पर विधानसभा अध्यक्ष सहित सभी रामसेवकों ने राम जन्मभूमि आंदोलन के समय के संस्मरणों को भी साझा किया।

        इस अवसर पर विधानसभा अध्यक्ष ने बधाई देते हुए कहा कि आज के ही दिन भारत के यशस्वी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने बीते साल अयोध्या में श्री राम लला मंदिर प्रांगण में भूमिपूजन और शिलान्यास किया था एवं इसके बाद से भव्य राम मंदिर निर्माण कार्य प्रारंभ हुआ।इस अवसर पर विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि सदियों से राम मंदिर निर्माण का सपना आंखों में था जो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के नेतृत्व में पूरा हो रहा है।उन्होंने कहा कि राम मंदिर के लिए चले आंदोलन में उनके संपूर्ण परिवार ने जेल की यात्राएं की व यातनायें सही थी साथ ही हर दृष्टि से राम मंदिर निर्माण के लिए अपना योगदान दिया था।श्री अग्रवाल ने कहा कि अयोध्या में श्री राम मंदिर का निर्माण ना केवल भारत के लिए बल्कि संपूर्ण विश्व के लिए एक अध्यात्म का केंद्र है।

      इस अवसर पर राम सेवकों में पूर्व राज्य मंत्री कृष्ण कुमार सिंघल, हरीशानंद जी, विनोद जैन, बृजेश शर्मा, राजेंद्र रखा, जितेंद्र अग्रवाल, प्रतीक कालिया को सम्मानित किया गया।

       कार्यक्रम के दौरान विश्व हिंदू परिषद के जिला उपाध्यक्ष विनय पासवान, विश्व हिंदू परिषद के नगर उपाध्यक्ष दीपक कश्यप, खंड अध्यक्ष सुनील कुमार, राकेश चंद, पार्षद संजीव पाल, प्रदीप कोहली, रजनी बिष्ट, रमेश अरोड़ा, सुरेंद्र सिंह, रविंद्र राणा, संदीप खुराना,सुमन सहित अन्य लोग उपस्थित थे

टिप्पणियाँ