घर - घर रही श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की धूम, बच्चे बने राधा और कृष्ण

श्री कृष्ण जन्माष्टमी का पर्व बड़े ही धूमधाम से मनाया गया। कहीं लगे छप्पन भोग तो कहीं हुआ भंडारा। लोगों ने व्रत रखते हुए भजन कीर्तन के साथ अपने इष्ट के प्रति अपने श्रद्धा भाव को व्यक्त किया। सभी मंदिरों में सुंदर साजसज्जा की गई । साथ ही श्रद्धालुओं ने अपने घरों पर भी सुंदर-सुंदर झांकी तथा कृष्ण जी के बाल स्वरूप लड्डू गोपाल को पालने में झूला कर इस दिन को बहुत ही हर्ष और उल्लास के साथ मनाया। बहुत से परिवारों ने अपने घर के नन्हे-मुन्ने बच्चों को श्री कृष्ण एवं राधा के स्वरूप में भी सजाया । 

शहर के समाजसेवी दंपत्ति डॉ मनमोहन एवं प्रियंका रोहिला ने अपने जुड़वा बच्चे यथार्थ एवं यति को राधा एवं कृष्ण के स्वरूप में तैयार किया , जो कि बहुत ही मनभावन लग रहे थे।इस तरह के त्यौहार को मनाने का उद्देश्य अपने परंपराओं को बच्चों के साथ साझा कराना होता है ,जिससे कि बच्चे हमारी संस्कृति को आसानी से समझ सके। भारतीय संस्कृति की यही खासियत है कि वह हर त्योहार को बड़े ही आत्मीयता के साथ मनाया जाता है ।इस तरह के कार्यक्रम से कहीं ना कहीं बच्चों के अंदर संस्कार की भावना उत्पन्न होती है।

टिप्पणियाँ